Vedic astrology Planetary transits

Post Date: May 27, 2020

Vedic astrology Planetary transits

जब कोई भी पुरुष किसी भी पुरुष ग्रह की महादशा से गुजर रहा हो और उसका शासक ६ वें, a वें या १२ वें घर में हो, जो ६ वें, 6th वें या १२ वें भाव में स्थित हो या संबद्ध / कमजोर रूप से पुरुष ग्रहों की वजह से रखा गया हो और उसी समय, गोचर में, वह ग्रह चला जाए संबद्ध, कमजोर या 6 वें, 8 वें या 12 वें घर में और शनि आपकी राशि के चंद्रमा (साढ़े सती के पीक चरण) से पार हो रहा है, तो किसी का जीवन संघर्षपूर्ण और निराशाजनक हो सकता है।

यदि गोचर भी साथ नहीं दे रहा हो तो राहु या केतु की महादशा भी ऐसी समस्याएं दे सकती है।

एक संबद्ध या कमजोर आरोही स्वामी और चंद्रमा भी उपरोक्त समस्याओं का कारण बन सकते हैं।
लेकिन, याद रखें, सभी दिन समान नहीं होते हैं। यदि आप किसी भी संघर्ष के दौर से गुजर रहे हैं तो कृपया याद रखें कि यह भी गुजर जाएगा। इसलिए कभी भी अपने जीवन में हार न मानें। पलटने या तनाव के बजाय, कुछ उपाय खोजें। अतिवृष्टि या तनाव आपकी मदद करने वाला नहीं है।

अधिक सकारात्मक और बेहतर जीवन के लिए अपने चंद्रमा, आरोही स्वामी और 5 वें और 9 वें घर को मजबूत करें।

एक अच्छा दशा आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाएगा। तो, चिंता न करें :)। बस उन सभी अच्छी चीजों के लिए आभारी हैं जो आपके जीवन में हैं!

Author:-  Varun Mishra (Spiritual Trainer)
                   Vedic Jyotish & Numerologist

 

Share the post

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *